Special Holi Poem in Hindi and English Language

Holi it means the celebration of colours . Holi Poems in Hindi to help you understand the spirit of glorious Holi festival. Great collection of holi poems in Hindi & english language, holi poetry, poems for holi, holi kavitaein, english hindi holi poems, holi poetries, kavitaein for holi, holi poem, holi festival poems, free holi poems, free holi festival poems, Holi Par Kavita, होली पर कविता holi festival poetry.

होली पर कविता
होली पर कविता

तुम अपने रँग में रँग लो तो होली है।
देखी मैंने बहुत दिनों तक
दुनिया की रंगीनी,
किंतु रही कोरी की कोरी
मेरी चादर झीनी,
तन के तार छूए बहुतों ने
मन का तार न भीगा,
तुम अपने रँग में रँग लो तो होली है
अंबर ने ओढ़ी है तन पर
चादर नीली-नीली,
हरित धरित्री के आँगन में
सरसों पीली-पीली,
सिंदूरी मंजरियों से है
अंबा शीश सजाए,
रोलीमय संध्या ऊषा की चोली है।
तुम अपने रँग में रँग लो तो होली है।
~हरिवंशराय बच्चन

Poem for Holi
Poem for Holi

Holi aayi Holi aayi
Rang birangi Holi aayi
Dhum machati Holi aayi
Baccho ki yha toli aayi
Hath me pichkari layi
Rang gulal udati aayi
Holi aayi Holi aayi

Holi Poem in Hindi
Holi Poem in Hindi

रस रंग भरे मन में होली ,
जीवन में प्रेम भरे होली ।
मुस्कान रचे सब अधरन पर,
मिल जुल कर सब खेलें होली ।
गले लगें सब मन मीत बने ,
रंगों से मन का गीत लिखें ।
जीवन में मधु संगीत भरें ,
भूले बिसरों को याद करें ।
जो संग में थे पिछली होली ,
रस रंग भरे मन में होली ।।

Gulal – red, green, yellow and countless.
A day’s canvas – a riot of colors.
Lively crowd running hither and thither,
Rainbow of colors, dashing from every nook and corner.
Disregarding their woe and despair fervent folks,
rejoicing at the marvel of colors.
A day filled with luster and gaiety,
A day to smear our dreams-
With a splash of vibrant frenzy colors.
Holi Hai! A spring of unbounded fun and frolic!!

Holi Poem
Holi Poem

होली है भई होली है,
बुरा न मानो होली है!
आऒ मिल के खुशियाँ मनाएं,
अपनों को हम रंग लगाएँ!
फूलों से हम खेलें होली,
बचत करें हम पानी की!
सब मिल कर जोर से गाएं,
बुरा न मानो होली है!
किसी को ना ठेस पहुचाएं,
नए नए पकवान खाएं और खिलाएं!
खुद भी रंग लगाएं
और दूसरों पर भी अबीर लगायें
टोली बना कर गाएं हम सब
बुरा न मानो होली है!

Holi Par Kavita
Holi Par Kavita

तुमको रंग लगाना है
होली आज मनाना है।
प्रतिकार करो इनकार करो
पर रगों को स्वीकार करो
रगों से तुम्हें नहलाना है
होली आज मनाना है।
भर पिचकारी बौछार जो मारी
भीगी चुनरी भीगी साड़ी
अपने ही रंग में रंगवाना है
होली आज मनाना है।
अबीर गुलाल तो बहाना है
दूरियाँ दिलों की मिटाना है
तो कैसा ये शरमाना है
होली आज मनाना है।

Holi Kavita in Hindi
Holi Kavita in Hindi

होली आई , खुशियाँ लाई
खेले राधा सँग कन्हाई
फैन्के इक दूजे पे गुलाल
हरे , गुलाबी ,पीले गाल
प्यार का यह त्योहार निराला
खुश है कान्हा सँग ब्रजबाला
चढा प्रेम का ऐसा रँग
मस्ती मे झूम अन्ग-अन्ग
आओ हम भी खेले होली
नही देन्गे कोई मीठी गोली
हम खेले शब्दो के सँग
भावो के फैन्केगे रन्ग
रन्ग-बिरन्गे भाव दिखेन्गे
आज हम होली पे लिखेन्गे
चलो होलिका सब मिल के जलाएँ
एक नया इतिहास बनाएँ
जलाएँ उसमे बुरे विचार
कटु-भावो का करे तिरस्कार
नफरत की दे दे आहुति
आज लगाएँ प्रेम भभूति
प्रेम के रन्ग मे सब रन्ग डाले
नफरत नही कोई मन मे पाले
सब इक दूजे के हो जाएँ
आओ हम सब होली मनाएँ

Holi Festival Poem in English
Holi Festival Poem in English

The trees smile with their sprout
Of tender leaves and blooming flowers,
Eternal nature with its transient expression.
Hails spring with ecstasy and joy!
Bewildering shades with so many tinge.
The land of beauty and greatness,
India, witnessing color of happiness and peace.
Nation come alive to enjoy the spirit
A celebration of color- Holi!
An experience of content, harmony and delight.

Happy Holi Poems In English
Happy Holi Poems In English

I am dreaming of playing with colors and gulal,
It is the Holi celebration after all.
I can’t play inside my home, the carpets will get tainted,
I cant’ play it in the yard, the grass and outer walls will get painted.
I thought I would go to the temple,
and enjoy the traditional Holi festivities,
Once again I am banned from playing with colors inside the temple,
I can’t play the drums and sing “Holi hai” outside, as the neighbors don’t like the noise.
Little disappointed, I head for the community centre,
they have the Holi celebration in the evening,
The kids perform and remind me of my cultural heritage,
I hear all the nice Holi songs and watch dances,
I enjoy Puas(sweets) and Goat meat curry as a special Holi treat,
but I still miss the colors and Gulal on my face.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 − nine =